अनवर सुहैल

kavi kathakar

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2009

उठो रोज़ेदारों उर्फ़ जुम्मन चाचा

उठो रोज़ेदारों उर्फ़ जुम्मन चाचा
अनवर सुहैल
जब हम
दुबके होते थे लिहाफ़ों में
खोए रहते थे नींद की आगोश में
और अचानक बाहर गली में गूंज उठती थी
लाठी की ठक ठक के साथ
एक लरज़ती सी आवाज़
'उठो रोज़ेदारों सुबह हो गई'
ये जुम्मन चाचा की आवाज़ हुआ करती थी

जुम्मन चाचा चलते जाते थे
उन्हें बहुत कम समय में
तय करनी होती थी एक लम्बी दूरी

मस्जिद पारा से मौहार पारा तक
चैनपुर से रेल्वे कालोनी तक
उनके हाथ में होती थी लाठी एक
दूसरे हाथ में मंद मंद जलती लालटेन
बडा ही रहस्यमय व्यक्तित्व था
जुम्मन चाचा का

सुनकर उनकी खनकदार आवाज़
जाग उठती थी अम्मी पहले
भिड जाती थीं रसोई में
सहरी बनाने के लिए
जलाती थीं चूल्हा
रोटियां बन जाने के बाद
जगाती थीं अब्बा को
कि उठिए, बचा है वक्त बहुत कम
सहरी के लिए

जुम्मन चाचा की मौत के बाद
मजबूरन खरीदीं गई अलार्म घडियां
उनमें जितनी भरी जाती थी चाभी
उतनी देर बजता था अलार्म
हर साल रमज़ान के चांद से पहले
जान मोहम्मद घडीसाज़ से
घडी रिपेयरिंग करवाते थे अब्बा
किसी रोज़ खुल नहीं पाती नींद गर
तो बिना सहरी खाए अब्बा
रखते थे रोज़ा
और बडबडाते थे सारा दिन
शैतान के बहकावे में आकर
सहरी में न उठ पाने से दुखी रहते
सारा दिन

बदलते ज़माने के साथ
घर आई बैटरी से चलने वाली क्वार्ट्ज़ घडियां
जिन्हें जब तक बंद न किया जाए
बजती ही रहती हैं मुई
और अब तो
हर घर में है मोबाईल
जुम्मन चाचा को जानने वाली
पीढी भी नहीं रही...

लेबल: , , ,

2 टिप्पणियाँ:

यहां 3 अप्रैल 2010 को 3:05 am, Blogger संजीव तिवारी ने कहा…

छत्‍तीसगढ ब्‍लागर्स चौपालमें आपका स्‍वागत है.

 
यहां 13 जनवरी 2011 को 5:03 am, Blogger कमल शर्मा ने कहा…

laajawaab kar diya
kamal
http://aghorupanishad.blogspot.com

 

एक टिप्पणी भेजें

सदस्यता लें टिप्पणियाँ भेजें [Atom]

<< मुख्यपृष्ठ